Latest news
कपड़ा क्षेत्र के लिए केंद्र से 10,683 करोड़ रुपये की PLI योजना मंजूर बॉलीवुड स्टार अक्षय कुमार की मां अरुणा भाटिया का निधन सम्पूर्ण जनजागृति ऑर्गेनाइजेशन द्वारा मोटिवेशनल क्लास का शुभारंभ झारखंड: नमाज के लिए कमरे का विरोध, कल किया कीर्तन तो आज बजाया डमरू गिलानी की मौत के बाद कश्‍मीर में नहीं है मातमी माहौल, अवाम को शांति रास आई अधिवक्ताओं की समस्याओं का समाधान ही प्राथमिकता: सर्वेश शर्मा 9 सितंबर को जम्मू के दौरे पर जाने वाले हैं राहुल, वैष्‍णो देवी के भी करेंगे दर्शन अफगानिस्‍तान के हालात पर चर्चा करेंगे ग्रुप-7 देशों के विदेश मंत्री धरती के पहले शिक्षक थे सप्त ऋषि टोक्यो पैरालंपिक: भारत के खाते में एक और गोल्ड, एक सिल्‍वर भी
Advertisement

सिद्धू ने कैप्टन को फिर घेरा, चिट्ठी सौंपकर उठाए वही तमाम मुद्दे

0

चंडीगढ़। पंजाब कांग्रेस में नवजोत सिंह सिद्धू और कैप्टन अमरिंदर सिंह की बीच लंबे वक्त से खींचतान जारी है लेकिन इसी बीच मंगलवार को दोनों नेताओं के बीच मुलाकात हुई।
दरअसल नवजोत सिंह सिद्धू ने ही कैप्टन अमरिंदर सिंह से मिलने का समय मांगा था, जिसके बाद कैप्टन ने उन्हें सचिवालय में स्थित अपने दफ्तर में बुलाया। दोनों नेताओं के बीच काफी देर बातचीत चली।
मुलाकात के दौरान नवजोत सिंह सिद्धू ने सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह को एक चिट्ठी सौंपी और कांग्रेस आलाकमान द्वारा पंजाब सरकार की कार्यप्रणाली को बेहतर करने के लिए बनाए गए 18-सूत्रीय कार्यक्रम को याद दिलाया।
सिद्धू ने अपनी चिट्ठी की पहली ही लाइन में लिखा कि पंजाब सरकार को आज ढृढ़ फैसले लेने की जरूरत है और सबको साथ लेकर चलने वाली लीडरशिप की जरूरत है।
इसके साथ ही सिद्धू ने अपनी चिट्ठी में एक बार फिर वही तमाम मुद्दे उठाए, जिन्हें लेकर वह पूर्व में अपनी ही पार्टी की सरकार को घेरते रहे हैं। उन्होंने चिट्ठी में लिखा, “पंजाब के लोग गुरु ग्रंथ साहिब जी की बेअदबी और कोटकपूरा तथा बहबल कलां में पुलिस फायरिंग की घटनाओं के मुख्य दोषियों को सजा दिलाकर पंजाब की आत्मा के लिए न्याय की मांग करते हैं।”
उन्होंने आगे लिखा, “पंजाब में मादक पदार्थों की तस्करी के पीछे एसटीएफ की रिपोर्ट में उल्लेखित बड़ी मछली को तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए और कड़ी सजा दी जानी चाहिए।”
उन्होंने लिखा, “कृषि पंजाब की रीढ़ है और जैसा कि हम सभी केंद्र के तीन काले कानूनों के खिलाफ विरोध करते हैं।”
उन्होंने लिखा, “पंजाब सरकार को न केवल तीन काले कानूनों के कुछ खंडों (Clauses) में संशोधन की सिफारिश करनी चाहिए बल्कि उन्हें पूरी तरह से अस्वीकार कर देना चाहिए और घोषणा करनी चाहिए कि उन्हें किसी भी कीमत पर पंजाब में लागू नहीं किया जाएगा।”
पत्र में लिखा, “हमारी सरकार को राज्य के खजाने को बिना किसी नुकसान के दोषपूर्ण बिजली खरीद समझौतों को रद्द करके आपके 2017 के चुनावी वादे को पूरा करना चाहिए।”
उन्होंने आगे लिखा की राज्य में प्रदर्शन कर रहे डॉक्टर्स, टीचर्स, नर्सेस, लाइनमैन और सफाईकर्मियों के लिए सरकार बातचीत के रास्ते खोले।”
-एजेंसियां

Share.

About Author

Leave A Reply

Translate »
error: Content is protected !!